Meri In Aakho ko Dekh Kr………

“Meri In Aakho ko Dekh Kr   Ek Aadmi Bola, Teri Aakho   Ki Gahraayi Btaati Hai ki,   Tuje Bhi Kbhi Hasne Kaa   Sokh Tha….!!” ——————————————————————- “मेरी इन आखों को देख कर एक आदमी बोला, तेरी आँखों की गहरायी बताती हैं कि, तुझे भी कभी हँसने का शौक था।”

Ek Time Tha Jab Baate……..

“Ek Time Tha Jab Baate, Khatam Nahi Hua Krti Thi, Ab Sab Kuch Badal Gya, Ab Krne Ko Kuch Baate Hi Nahi Hoti…!!” —————————————————————- “एक टाइम था जब बाते खत्म नही हुआ करती थी, अब सब कुछ बदल गया, अब करने को कुछ बाते ही नही होती।”

Jha Par Bhi Aapko Lge Ki…….

“Jha Par Bhi Aapko Lge Ki, Yha Ab Aapki Zarurat Nahi, To Vha Khaamoshi Se Khud Ko Alag Kr Lena Hi Shi Hota Hai…!!” ——————————————————————- “जहाँ पर भी आपको लगे की, यहाँ अब आपकी ज़रूरत नहीं, तो वहाँ खामोशी से खुद को अलग कर लेना चाहिये।”

Ek Sirf Tumne Hi Muje…….

“Ek Sirf Tumne Hi Muje Apna Nahi Samja, Varna Smaaj To Aaj Bhi Muje Tera Divana Samajta Hai…..!!” ————————————————————- ” एक सिर्फ तुमने ही मुझे अपना नहीं समझा, वरना समाज तो आज भी मुझे तेरा दीवाना समझता हैं।”

Ek Kwaayish Le Kar……….

“Ek Kwaayish Le Kar Jee Rha Tha Abi Tak, Par Sayad Bhool Gya Tha Ki Har Kwaayish Hakkikat Me Nahi Badalti……!!” —————————————————————— ” एक ख्वाइश ले कर जी रहा था अभी तक, पर शायद भूल गया था कि हर ख्वाइश हकीकत में नहीं बदलती। “

Hum Vo Insaan Hai………

“Hum Vo Insaan Hai Jiska Tum Hona Nhi Chayte, Or Tum Vah Insaan ho Jise Hum Khona Nhi Chayte…!!” ———————————————————————- “हम वो इंसान है, जिसका तुम होना नहीं चाहते, और तुम वह इंसान हो जिसे हम खोना नहीं चाहते।”

Bs Tera Naam Hi Kaafi Hai……..

“Bs Tera Naam Hi Kaafi Hai, Mera Dil Dhukaane K liye…..!!” ———————————————————————— “बस तेरा नाम ही काफी है, मेरा दिल दुखाने के लिए।”

Kaisa Ajeeb Khel Hai ye……..

“Kaisa Ajeeb Khel Hai ye Mohbbat Ka, Kisi Ko Hum Nahi Mile Or Koi Hume Naa Mila…….!!” ———————————————————————– “कैसा आजीब खेल हैं ये मोहब्बत का, किसी को हम नही मिले और कोई हमे ना मिला।”

Raah Me Tukde Pde The………..

“Raah Me Tukde Pde The, Kisi Haseena Ki Tasveer K, Lgta Hai Aaj Koi Diwana Samajdaar Ho Gya….!!” ————————————————————————————————- “राह में टुकड़े पड़े थे,किसी हसीना की तस्वीर के, लगता हैं आज कोई दीवाना समझदार हो गया।”

Mujme Jisko Aaj Laakho Galtiya……….

“Mujme Jisko Aaj Laakho Galtiya Najar Aa Rhi Hai, Usi Ne Kabhi Khaa Tha Tum Jaise Bhi Ho Mere Ho….!!” —————————————————————————————- “मुझमे जिसको आज लाखो गलतियां नजर आ रही हैं, उसी ने कभी कहा था, तुम जैसे भी हो मेरे हो।”